नया क्या है
  • मिश्र धातु निगम लि. (मिधानी) में भारत सरकार की शत-प्रतिशत शेयरधारिता में से 100% प्रदत्त इक्विटी का घरेलू बाजार में आरंभिक सार्वजनिक पेशकश के माध्यम से विनिवेश के लिए पंजीयक की नियुक्ति - प्रस्ताव हेतु अनुरोध।
  • मजगांव डॉक शिपबिल्डर्स लि. में भारत सरकार की शत-प्रतिशत शेयरधारिता में से 25% प्रदत्त इक्विटी का घरेलू बाजार में आरंभिक सार्वजनिक पेशकश के माध्यम से विनिवेश के लिए पंजीयक की नियुक्ति - प्रस्ताव हेतु अनुरोध।
  • गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लि. (जीआरएसई) के सूचीकरण तथा घरेलू बाजार में आरंभिक सार्वजनिक पेश के माध्यम से भारत सरकार की शत-प्रतिशत शेयरधारिता में से विनिवेश के लिए पंजीयक की नियुक्ति - प्रस्ताव हेतु अनुरोध।
  • भारत डायनामिक्स लिमिटेड में भारत सरकार की शत-प्रतिशत शेयरधारिता में से 100% प्रदत्त इक्विटी का घरेलू बाजार में आरंभिक सार्वजनिक पेशकश के माध्यम से विनिवेश के लिए पंजीयक की नियुक्ति - प्रस्ताव हेतु अनुरोध।
  • चालू वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान कुल विनिवेश प्राप्तियाँ 8,832.30 करोड़ रुपये हैं। ( 17 अगस्त, 2017 की स्थिति में)
  • बीएसई और एनएसई में सूचीबद्ध कंपनियों के कुल बाजार पूंजीकरण में केन्द्रीय सरकारी क्षेत्र के उद्यमों का क्रमशः 10.48 प्रतिशत और 10.58 प्रतिशत हिस्सा है (31 जुलाई, 2017 की स्थिति के अनुसार)।
  • तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम लि. सर्वोच्च बाजार पूंजीकरण वाला सीपीएसई है, जो बीएसई में 2,17,330.83 करोड़ रु. और एनएसई में 2,17,395.00 करोड़ रु. है (31 जुलाई, 2017 की स्थिति के अनुसार)।
  • वीएसएनएल, 1999-00 में सार्वजनिक पेशकश के जरिए विनिवेशित किया जाने वाला पहला सीपीएसई था।
  • वर्ष 2003-04 के बाद जिस पीएसयू की आईपीओ/एफपीओ में अधिकतम संख्या में आवेदन प्राप्त हुए थे, वह था सीआईएल (15.96 लाख)।
  • वर्ष 2014-15 में कोल इण्डिया की सार्वजनिक पेशकश सीपीएसई की सबसे बड़ी बिक्री की पेशकश थी, जिससे 22,557.63 करोड़ रु. जुटाए गए थे।
  • वर्ष 2003-04 में, ओएनजीसी की सार्वजनिक पेशकश सबसे बड़ी अनुवर्ती सार्वजनिक पेशकश थी, जिससे 10,542 करोड़ रु. जुटाए गए थे।
  • वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान कुल विनिवेश प्राप्तियाँ 46,246.58 करोड़ रुपये हैं।