भारतीय जहाजरानी निगम लि. (एससीआई)

प्रेस सूचना ब्यूरो की दिनांक 05 अक्तूबर, 2010 की प्रेस विज्ञप्ति – एससीआई द्वारा बिक्री की पेशकश के माध्यम से और अतिरिक्त इक्विटी जुटाने के लिए एससीआई में भारत सरकार की इक्विटी के एक हिस्से का विनिवेश

 

आर्थिक कार्य संबंधी मंत्रिमंडल समिति ने निम्न के लिए आज अपना अनुमोदन दिया :

  1. एससीआई द्वारा सेबी के विनियमों के अनुसार घरेलू बाजार में अपनी इक्विटी में से 10% नई इक्विटी का निर्गम, जो 4,23,45,365 शेयर बनते हैं।

  2. भारत सरकार की मौजूदा इक्विटी में से सेबी के विनियमों के अनुसार घरेलू बाजार में 10% इक्विटी की बिक्री, जो 4,23,45,365 शेयर बनते हैं।

  3. फुटकर निवेशकों को निर्गम मूल्य पर 5% की छूट।

  4. कंपनी के कर्मचारियों के लिए पेशकश मूल्य पर 5% की छूट के साथ निर्गम आकार के 0.50% (अर्थात 4,23,454) शेयरों का आरक्षण।

 

एससीआई के विनिवेश से लगभग 1300 करोड़ रुपए प्राप्त होने की संभावना है।

 

एससीआई में इस समय सरकार के पास 80.12% इक्विटी है और उपरोक्त बिक्री की पेशकश तथा शेयरों के अनुवर्ती निर्गम के बाद सरकारी शेयरधारिता 63.75% रह जाएगी। इस विनिवेश से इस कंपनी में वृहत जनस्वामित्व का रास्ता तैयार हो जाएगा और यह सुनिश्चित होगा कि सरकारी इक्विटी 51% से कम नहीं हो।

एससीआई एक नवरत्न कंपनी है, जिसका निरंतर लाभ अर्जित करने और लाभांश देने का रिकार्ड बना हुआ है। यह भारत की सबसे बड़ी शिपिंग कंपनी है, जिसके पास 5.10 मिलियन डीडब्ल्यूटी के 17 समुद्री जहाज हैं।

एससीआई की वेबसाइट के सुगम संदर्भ के लिए लिंक की व्यवस्था की जा रही है।